"चिकित्सा समाज सेवा है,व्यवसाय नहीं"

Showing posts with label घरेलू उपचार. Show all posts
Showing posts with label घरेलू उपचार. Show all posts

Wednesday, 21 September 2016

ड्रग रिएक्शन की लापरवाही : बड़े खतरे को आमंत्रण ------ संचिता शर्मा

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं


************

एलोपैथी का प्रचार और घरेलू उपचार से अनभिज्ञता ने ड्रग रिएक्शन अर्थात दवाओं के दुष्प्रभावों से अनेक नई नई बीमारियों का सृजन किया है । इस दुष्चक्र में फंस कर जनता का धन व स्वास्थ्य निरंतर गिरता जाता है। 


(1 ) यदि छींके आ रही हों, नाक से पानी बह रहा हो तब कोई भी एलोपैथी दवा न लेकर यदि 5,7,9 के विषम क्रम में काली मिर्च चबा कर गुनगुना पानी या चाय पी लें तो लाभ हो जाएगा और कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होगा। 

(2 ) यदि कफ के कारण या पित्त प्रकोप के कारण उल्टियाँ हो रही हों तब कोई एलोपैथी दवा न लेकर 5,7,9 के विषम क्रम में लौंग के  नग (दाने ) एक ग्लास पानी में उबाल  कर रख लें और एक-एक चंच यह पानी देते रहें तो उल्टियाँ बंद हो जाएंगी और कोई रिएक्शन भी नहीं होगा। 

(3 ) यदि बदहज़मी  या खान - पान की गड़बड़ी से पेट में दर्द हो रहा हो तब कोई दर्द निवारक एलोपैथी औषद्धि लेने के बजाए थोड़ी सी हींग थोड़े से पानी में खूब गरम करके इस प्रकार नाभि में उस घोल को धीरे- धीरे डालें कि, शरीर जले नहीं और उसी घोल को नाभि के इर्द-गिर्द हल्के हाथों से मालिश कर दें पेट दर्द ठीक हो जाएगा और कोई रिएक्शन भी नहीं होगा। 

इसी प्रकार तमाम घरेलू उपचार घर की रसोई में ही उपलब्द्ध रहते हैं बस धैर्य रख कर घर में ही उपचार करने की ज़रूरत है जिससे दवाओं के साइड इफ़ेक्ट्स - दुष्परिणामों से भी बचाव होगा व शीघ्र सस्ता उपचार भी हो जाएगा। 
( विजय राजबली माथुर ) 

Monday, 5 October 2015

घुटनों का दर्द और गठिया का घरेलू उपचार --- प्रस्तोता डॉ आरती कुलश्रेष्ठ

डॉ आरती कुलश्रेष्ठ


घुटनों के दर्द का घरेलू उपचार :

. एक चम्मच हल्दी में एक चम्मच बूरा एवं थोड़ा सा चूना मिलाकर पानी की सहायता से एक लेप तैयार कर लीजिये। यह लेप रात को घुटनों पर लगा कर सो जाये एवं सुबह धो लीजिये। इससे घुटनों का दर्द जल्द ही समाप्त हो जाएगा।

2. एक चम्मच सोंठ के पाउडर अर्थात सुखी अदरक के पाउडर में एक चम्मच सरसो का तेल डालकर एक लेप तैयार कर लीजिये। इसे कुछ देर घुटनों पर लगाने से आपको जल्द दर्द से राहत मिल सकती है।
3. चार पांच बादाम,चार पांच काली मिर्च, एवं दस एग्यारह मुन्नक्का चबा चबा कर खाए उसके साथ एक गिलास दूध पी लीजिये। इससे जल्द आपको घुटनों के दर्द से राहत मिलेगी।
यदि आपके घुटने स्वस्थ रहेंगे तभी आब ज़िन्दगी की भागदौड़ में कामयाब हो पाएंगे । अतः इन नुस्खों को अपनाएं और घुटने के दर्द को भूल जाएँ । 

क्या आपको है अर्थराइटिस? करें खानपान में ये 6 बदलाव--- आहार विशेषज्ञ नैनी सीतलवाड़:

1-अर्थराइटिस की समस्या में हेल्दी फैट्स खाना भी बहुत जरूरी होता है। ये फैट्स आपके जोड़ों में चिकनाई लाते हैं (या उन्हें लुब्रिकेट करते हैं)। अगर आपको अर्थराइटिस है तो अखरोट, काजू, पिस्ता, सूरजमुखी के बीज, अलसी के बीज, तिल आदि ज़रूर खाएं। अपनी रोटियों में थोड़ा घी भी लगाएं।

2-अगर आप अर्थराइटिस के तकलीफ से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आपको अपने खाने में लहसुन, अदरक और प्याज़ शामिल करना चाहिए। साथ ही, हरी मिर्च से लेकर शिमला मिर्च तक, हर तरह की मिर्च का सेवन करना चाहिए। लौंग व इलायची भी अर्थराइटिस में फायदेमंद होता है।

3-टमाटर, नींबू, आंवला, इमली, डेयरी उत्पाद आदि से परहेज़ करें। ये चीज़ें आपके जोड़ों का दर्द बढ़ा सकती हैं। हालांकि इसका एक नुकसान भी है, इनके परहेज़ से आपको विटामिन सी की कमी हो सकती है। विटामिन सी की कमी से बचने के लिए रोज़ अमरूद और कोकम खाएं। ये आपके शरीर की सूजन को भी दूर करेंगे।

4-अपनी रोटी के आटे में ज्वार, रागी, बाजरा आदि का आटा भी मिलाएं। इन अनाजों में ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो आपके जोड़ों को अर्थराइटिस से राहत पहुंचा सकते हैं।

5 -मैदा, वाइट शुगर और साधारण नमक का परहेज़ करना भी ज़रूरी है। आप खजूर और गुड़ जैसी मीठी चीज़ें खा सकते हैं। साथ ही, साधारण नमक के बजाय समुद्री नमक लें। इस नमक में ऐसे मिनरल होते हैं जो दर्द दूर करने के लिए जाने जाते हैं।

6 -अर्थराइटिस होने पर, विटामिन बी 12 और डी 3 स्तर पर नज़र रखना ज़रूरी है। अगर दोनों के स्तर कम है, तो डॉक्टर से परामर्श करके आप सप्लीमेंट लें। आमतौर पर अर्थराइटिस में इन दोनों के स्तर कम ही होते हैं।





Friday, 14 November 2014

स्वस्थ शरीर जीवन:कुछ घरेलू उपचार..विजय प्रकाश अग्रवाल

कुछ घरेलू उपचार..
- अजवाइन-गुड़ खाइए, तभी बने कुछ काम, पित्त रोग में लाभ हो, पायेंगे आराम..
- रोटी मक्के की भली, खा लें यदि भरपूर, बेहतर लीवर आपका, टी० बी० भी हो दूर..
- गाजर रस संग आँवला, बीस औ चालिस ग्राम, रक्तचाप हिरदय सही, पायें सब आराम..ठण्ड लगे जब आपको, सर्दी से बेहाल, नीबू मधु के साथ में, अदरक पियें उबाल..
- अदरक का रस लीजिए, मधु लेवें समभाग, नियमित सेवन जब करें, सर्दी जाए भाग..
- शहद आंवला जूस हो, मिश्री सब दस ग्राम, बीस ग्राम घी साथ में, यौवन स्थिर काम..
(- चिंतित होता क्यों भला, देख बुढ़ापा रोय, चौलाई पालक भली, यौवन स्थिर होय..)
- लाल टमाटर लीजिए, खीरा सहित सनेह, जूसकरेला साथ हो, दूर रहे मधुमेह
..- प्रातः संध्या पीजिए, खाली पेट सनेह, जामुन-गुठली पीसिये, नहीं रहे मधुमेह..
- सात पत्र लें नीम के, खाली पेट चबाय, दूर करे मधुमेह को, सब कुछ मन को भाय..
- सात फूल ले लीजिए, सुन्दर सदाबहार, दूर करे मधुमेह को, जीवन में हो प्यार..
- तुलसीदल दस लीजिए, उठकर प्रातःकाल, सेहत सुधरे आपकी, तन-मन मालामाल..

- थोड़ा सा गुड़ लीजिए, दूर रहें सब रोग, अधिक कभी मत खाइए, चाहे मोहनभोग
..- अजवाइन और हींग लें, लहसुन तेल पकाय, मालिश जोड़ों की करें, दर्द दूर हो जाय..ऐलोवेरा-आँवला, करे खून में वृद्धि, उदर व्याधियाँ दूर हों, जीवन में हो सिद्धि..
- दस्त अगर आने लगें, चिंतित दीखे माथ, दालचीनि का पाउडर, लें पानी के साथ.
.- मुँह में बदबू हो अगर, दालचीनि मुख डाल, बने सुगन्धित मुख, महक, दूर होय तत्काल..
- कंचन काया को कभी, पित्त अगर दे कष्ट, घृतकुमारि संग आँवला, करे उसे भी नष्ट.
.- बीस मिली रस आँवला, पांच ग्राम मधु संग, सुबह शाम में चाटिये, बढ़े ज्योति सब दंग..
- बीस मिली रस आँवला, हल्दी हो एक ग्राम, सर्दी कफ तकलीफ में, फ़ौरन हो आराम..
- नीबू बेसन जल शहद , मिश्रित लेप लगाय, चेहरा सुन्दर तब बने, बेहतर यही उपाय..मधु का सेवन जो करे, सुख पावेगा सोय, कंठ सुरीला साथ में , वाणी मधुरिम होय..
- पीता थोड़ी छाछ जो, भोजन करके रोज, नहीं जरूरत वैद्य की, चेहरे पर हो ओज..
- ठण्ड अगर लग जाय जो नहीं बने कुछ काम, नियमित पी लें गुनगुना, पानी दे आराम..
- कफ से पीड़ित हो अगर, खाँसी बहुत सताय, अजवाइन की भाप लें, कफ तब बाहर आय..
- अजवाइन लें छाछ संग, मात्रा पाँच गिराम, कीट पेट के नष्ट हों, जल्दी हो आराम..
- छाछ हींग सेंधा नमक, दूर करे सब रोग, जीरा उसमें डालकर, पियें सदा यह